Latest News

National
Shayri

Entertainment

Crime

Uttar Pradesh

Ajab Gajab

Recent Posts

Sunday, 14 January 2018

ठाकुरद्वारा-प्रधान के इन्टर कालेज मे महिला से गैंगरेप,कोर्ट के आदेश पर मामला दर्ज

मुरादाबाद/ठाकुरद्वारा-क्षेत्र के ग्राम कमालपुरी ख़ालसा के ग्राम प्रधान के विरुद्ध जिला बिजनोर निवासी महिला की शिकायत पर कोर्ट के आदेश के बाद कोतवाली पुलिस ने ग्राम प्रधान समेत चार लोगो के विरुद्ध गम्भीर धाराओं मे मामला दर्ज किया है।
जिला बिजनोर थाना शेरकोट के ग्राम नन्दगाँव निवासी महिला ने ग्राम कमालपुरी ख़ालसा के ग्राम प्रधान तेजपाल सिँह पुत्र विक्रम सिँह समेत चार अन्य लोगों पर गैंगरेप का आरोप लगाया है।मामले मे कोर्ट के आदेश पर कोतवाली पुलिस ने गम्भीर धाराओं मे ग्राम प्रधान समेत चार लोगो पर गम्भीर धाराओं मे मामला दर्ज कर लिया है। पीड़ित महिला ने बताया है कि आरोपी तेजपाल नगर के पुरानी घांस मण्डी रोड पर नवोदय टाईप शार्ट हेण्ड नाम से सेन्टर चलाता है।और महिला उसी सेन्टर पर अपने 19 वर्षीय बेटे का एडमिशन कराने पहुँची थी। सेन्टर संचालक ग्राम प्रधान तेजपाल ने महिला के बेटे का एडमिशन करते हुऐ रसीद बुक ग्राम फैजुल्लागंज के ग्राम प्रधान राजीव चौहान के इन्दोदेवी-रामकुमार इन्टर कालेज मे होने की बात कहते हुऐ पीड़िता को अपने साथ गाड़ी पर बैठाकर ले गया जहाँ पहले से ही तीन चार अन्य लोग भी मौजूद थे। पीड़िता की मानें तो आरोपी ग्राम प्रधान तेजपाल ने साथियों की मदद से पीड़िता को गन प्वाइंट पर लेकर गैंगरेप को अंजाम दे डाला।पीड़ित महिला किसी तरह आरोपियों के चुँगल से छुटकर भागी और कुछ दूरी पर राहगीर उत्तम सिँह के पूछने पर आपबीती सुनाई।घटना के बाद पीड़ित महिला ने कोतवाली पुलिस को मामले की जानकारी देते हुऐ पत्र के माध्यम से वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को भी मामले से अवगत कराया। मामले ठंडे बस्ते मे डलता देख महिला ने कोर्ट की शरण ली जिसके बाद कोर्ट के आदेश पर कोतवाली पुलिस ने शनिवार को आरोपी ग्राम प्रधान समेत चार अन्य लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया।रविवार को पीड़ित महिला व गवाह उत्तम कुमार कोतवाली पहुँचे तो आरोपी ग्राम प्रधान के भाई तेजवीर व रवि ने साथियों के साथ मिलकर गवाह उत्तम कुमार को कोतवाली गेट पर ही जमकर पीटा।मुक़दमे के गवाह उत्तम कुमार के साथ मारपीट कर रहे लोगो को कोतवाली पुलिस ने हिरासत मे ले लिया। उधर महिला से गैंगरेप के मामले मे ग्राम प्रधान व अन्य लोगों की तलाश मे पुलिस ने कार्यवाही शुरू कर दी है।

Wednesday, 10 January 2018

मौ आरिफ खान ने प्रकाश पांडे के निधन पर जताया शोक मुआवजे व सरकारी नौकरी की मांग

काशीपुर  जन शक्ति विकास संगठन राष्ट्रीय अध्यक्ष  मौ आरिफ खान ने ट्रांसपोर्टर प्रकाश पांडे के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि यह बहुत दुखद घटना है। इससे वह स्वयं व सगंठन  व्यथित है व इस असीम दुख की घड़ी में हम उनके परिवार के साथ हैं।उनकी मृत्यु मैक्स हॉस्पिटल में हो गई
जन शक्ति विकास संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौ आरिफ खान ने कहा कि नोटबंदी व जीएसटी से पीड़ित हो कर ट्रांसपोर्टर व्यापारी को मजबूरन आत्महत्या करनी पड़ी उत्तराखंड की सबसे बड़ी घटना है इसके लिए केन्द्रीय सरकार व राज्य सरकार मृतक के परिवार को उचित मुआवाजा  व सरकारी नौकरी दे जिससे परिवार का पालन पोषण आगे सुचारू रुप से चल सके इस दुख की  घड़ी में हम सभी उनके परिवार के साथ हैं उन्होंने दिवंगत आत्मा को श्रद्धांजलि अर्पित की।

सियासत चमकाने के लिए न करें मदरसों को बदनाम,राशीद रज़ा

मुरादाबाद/ठाकुरद्वारा-उत्तर प्रदेश शिया सेन्ट्रल वक्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिज़वी द्वारा मदरसों पर विवादित बयान की निन्दा करते हुऐ शहर इमाम मौलाना राशीद रज़ा ने इसे घटिया राजनीति क़रार देते हुऐ कहा की इस्लाम और मदरसे पानी तक बहाने की इजाज़त नही देता तो भला देहशगर्दी का सबक कैसे सिखा सकता है।

शहर इमाम मौलाना राशीद रज़ा ने कहा कि शिया सैंट्रल वक्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने यह बयान देकर कि मदरसों मे पढ़ने वाले तालिब-ऐ इल्म दहशतगर्दी की तरफ़ जा रहें है। किसी एक मुसलमान को नही बल्कि देशभर के मुसलमानों की भावनाओं के साथ खिलबाड़ किया है।उन्होंने कहा कि वसीम रिज़वी इस तरह के बयान अपनी घटिया राजनीति को चमकाने के लिए दे रहें है। साथ ही शहर इमाम ने कहा की इस्लाम देश से मौहब्बत और किसी को ठेस न पहुँचाने की हिदायत देता है और यही सब मदरसे के तालिबे इल्म को भी सिखाया जाता है। ऐसे मे वसीम रिज़वी ने यह घटिया बयान देकर इस्लाम और मदरसों को ही नही बल्कि इंसानियत को भी बदनाम करने की कोशिश की है।शहर इमाम ने कहा की इस्लाम कातिलों, देश के गद्दारों, दहशतगर्दों समेत तमाम ऐसे लोगों की मुख़ालफ़त करता है जो देश और इंसानियत के दुश्मन है और हमेशा ही करता रहेगा क्योकि दहशतगर्द किसी का नही होता और उसका कोई मज़हब भी नही होता।

फोटो- राशीद रज़ा

Sunday, 7 January 2018

जसपुर में पत्रकार की मौत, ठाकुरद्वारा में पत्रकारों ने जताया शोक

ठाकुरद्वारा/मुरादाबाद। उत्तराखंड के जसपुर में शाह टाइम्स के संवाददाता नासिर हुसैन की सड़क हादसे में मौत हो गयी। आज ठाकुरद्वारा में पत्रकारों ने दो मिनट का मौन दारण कर शोक व्यक्त किया।


उत्तराखंड के जसपुर में शाह टाइम्स के संवाददाता नासिर हुसैन का 5 जनवरी को एक्सिडेंट हो गया था। उन्हें उपचार के लिए जसपुर के सरकारी अस्पताल ले जाया गया। जहां से हालत गंभीर देखते हुए मुरादाबाद के अस्पताल में भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान शनिवार की रात उनकी मौत हो गयी। आज उन्हें जोहर की नमाज़ के बाद सुपुर्द-ए-खाक किया गया।


ठाकुरद्वारा में पत्रकारों ने दो मिनट का मौन धारण कर शोक व्यक्त किया। शोक सभा में मुरादाबाद टाइम्स के इफ्तखार अर्शी, UPUKLive के मुहम्मद फैज़ान, विधान केसरी व टीवी 100 के वसीम अब्बासी, शाह टाइम्स के सतीश चौधरी, दीपेश शर्मा, यामीन विकट, विवेक ओझा, अनुराग सिंघल, संजीव सिंघल, वसीम कुरैशी, शमशेर मलिक, नईम खान आदि मौजूद रहे।

ठाकुरद्वारा-पति समेत 9 के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का केस दर्ज

ठाकुरद्वारा/मुरादाबाद। कार, स्कूटी और एक लाख रूपये दहेज में नहीं मिले तो विवाहिता से मारपीट की गयी। मामले में 9 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। थाना डिलारी के ग्राम सदरपुर निवासी अब्दुल अजीज ने अपनी बेटी शबाना की शादी भोजपुर थाना क्षेत्र के सिडलऊ नजरपुर निवासी जाकिर हुसैन पुत्र साबिर के साथ की थी।
ससुरालजनों ने दहेज के लिए शबाना से गाली-गलौज व मारपीट शुरू कर दी। बुलैरो कार, स्कूटी और 3 लाख रूपये की मांग पूरी नहीं की तो मारपीट करते हुए जान से मारने की धमकी दी। शबाना की तहरीर पर महिला थाने में नौ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। जिनमें 1-जाकिर हुसैन पुत्र साबिर 2-साबिर हुसैन पुत्र सत्तार हुसैन 3-खैरूल निशां पत्नी साबिर हुसैन 4-मोहम्मद रफी पुत्र शब्बीर 5-डाक्टर शाकिर पुत्र सत्तार हुसैन 6-रेशमा पत्नी शाकिर 7-शाकिर की दूसरी पत्नी नाम नामालूम निवासीगण ग्राम सिडलऊ नजरपुर थाना भोजपुर जनपद मुरादाबाद 8-इलियास पुत्र सत्तार 9-श्रीमती इमरत पत्नी इलियास निवासीगण ग्राम सलावाला थाना छजलैट जनपद मुरादाबाद शामिल हैं।

ठाकुरद्वारा-सभासद पति ने बांटे गरीबों को लिहाफ़

ठाकुरद्वारा-नगर के मौहल्ला बहेड़ावाला मे सभासद पति ने बढ़ती ठंड को देखते हुऐ वार्ड के गरीब व्यक्तियों को ठंड के प्रकोप से बचाने के लिए कम्बल बांटे।

नगर के वार्ड नम्बर सात की सभासद जैतून बेग़म के पति हाफिज़ मौहम्मद यूसुफ़ ने वार्ड मे रह रहे सैकड़ों गरीब व्यक्तियों को लिहाफ़ बांटे। सभासद पति से लिहाफ़ पाने के बाद गरीबों असहाय व्यक्तियों के चेहरे खिल उठे। वहीँ सभासद पति हाफिज़ मौहम्मद यूसुफ़ ने ऐसे सभी लोगों से ये अपील भी की कि ख़ुदा ने जिन लोगों को दौलत से नवाजा है वह इस बात का भी ख़्याल रखे की ठंड मे किसी गरीब परिवार को कोई भी दिक्कत न हो।

फोटो- गरीब असहाय वार्डवासियों को लिहाफ़ बाँटते सभासद पति

Saturday, 6 January 2018

सजा मिलने के बाद बीजेपी पर बरसे लालू प्रसाद यादव, कहा- सामाजिक न्याय के लिए जान भी दे सकता हूँ।

चारा घोटाले से जुड़े एक मामले में रांची की सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा तीन साल की सजा मिलने के बाद आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने ट्विटर पर कहा कि वह सामाजिक न्याय के लिए जान भी दे सकते हैं। आरजेडी प्रमुख ने ट्वीट किया, ‘बीजेपी का सिंपल सा नियम है ‘हमें फॉलो करो नहीं तो हम तुम्हें ठिकाने लगा देंगे।’ मैं सामाजिक न्याय, सद्भाव और समानता के लिए खुशी-खुशी जान भी दे सकता हूं।’ लालू के इस ट्वीट पर यूजर्स ने अपनी प्रतिक्रियाएं देते हुए कहा कि उन्हें समानता की बात नहीं करनी चाहिए, क्योंकि जब मुख्यमंत्री बनने और बनाने की बात आती है तब उन्हें राबड़ी देवी, तेज प्रताप और तेजस्वी ही दिखाई देते हैं और लोग नहीं दिखते। वहीं कुछ लोगों ने यह कहा है कि लालू के पास जेल में मोबाइल और इंटरनेट है। इसके अलावा कुछ लोग कह रहे हैं कि जेल का ताला टूटेगा और गरीबों का मसीहा बाहर निकलेगा।

सीबीआई अदालत ने लालू को साढ़े तीन साल की सजा और 5 लाख का जुर्माना लगाया है। देवघर ट्रेजरी मामले में फैसला वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनाई गई है। अब लालू यादव को इस अदालत से जमानत नहीं मिल सकेगी। उन्हें जमानत के लिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाना होगा। अगर लालू प्रसाद यादव 5 लाख रुपये का जुर्माना नहीं चुकाते तो उन्हें 6 महीने की अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी। इस मामले में कुल 16 लोगों को दोषी ठहराया गया था। लालू के अलावा दोषी फूल चंद, महेश प्रसाद, बाके जुलियस, सुनील कुमार, सुशील कुमार, सुधीर कुमार और राजाराम को भी 3.5 साल कैद व 5 लाख रुपये की सजा दी गई है।

वर्ष 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये की फर्जीवाड़ा कर अवैध ढंग से पशु चारे के नाम पर निकासी के इस मामले में कुल 38 लोग आरोपी थे, जिनके खिलाफ सीबीआई ने 27 अक्तूबर 1997 को मुकदमा दर्ज किया था और लगभग 21 साल बाद इस मामले में गत 23 दिसंबर को फैसला आया। सीबीआई की विशेष अदालत ने चारा घोटाले के इस मामले में 23 दिसंबर को लालू प्रसाद समेत तीन नेताओं, तीन आईएएस अधिकारियों के अलावा पशुपालन विभाग के तत्कालीन अधिकारी कृष्ण कुमार प्रसाद, पशु चिकित्साधिकारी सुबीर भट्टाचार्य तथा आठ चारा आपूर्तिकर्ताओं सुशील कुमार झा, सुनील कुमार सिन्हा, राजाराम जोशी, गोपीनाथ दास, संजय कुमार अग्रवाल, ज्योति कुमार झा, सुनील गांधी तथा त्रिपुरारी मोहन प्रसाद को अदालत ने दोषी करार देकर जेल भेज दिया था।
Videos

Tags

Recent Post