Latest News

Thursday, 31 March 2016

AMU प्रशासन का उम्र सीमा लगाना गरीबो से शिक्षा का हक़ छीनने जैसा





अलीगढ़-  एम० यू० स्टूडेंट्स ने रॉस मसूद हॉल की कैंटीन पर मीटिंग कर यूनिवर्सिटी प्रशासन  के विभिन्न कोर्सो में प्रवेश को लेकर उम्र सीमा लगाए जाने के फैसले का विरोध करने का फैसला लिया है. इस सिलसिले में पहले भी  छात्रों ने वाईस चांसलर को पत्र लिख कर अवगत कराया था लेकिन अभी तक कोई करवाई न होने से छात्र नाराज़ है.

छात्र नेता आमिर चौधरी का कहना है कि पढ़ने कि कोई उम्र नहीं होती. इंसान जब चाहे पढ़ सकता है अगर  इंतेजामिया ने इस मसले में कोई कदम नहीं उठाया तो 2 अप्रैल से धरना दिया जाएगा. क्योँकि इंतेज़ामिया को पहले भी अवगत कराया था लेकिन वाईस चांसलर ने अभी तक कोई कदम नहीं उठाया.

छात्र नेता जानिब हसन का कहना है कि जब UGC ने कोई उम्र कि सीमा किसी कोर्स को लेकर तय नहीं कि है तो यूनिवर्सिटी इंतेजामिया कैसे लगा सकती है. यूनिवर्सिटी प्रशासन उम्र सीमा लगा कर गरीबो से पढ़ने का हक़ छीन रहा है इसे बर्दास्त नहीं किया जाएगा. 2 अप्रैल को अगर इस फैसले को वापस नहीं लिया गया तो एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक पे धरना दिया जाएगा.

वरिष्ठ छात्र नेता मोहम्मद जोरेज का कहना है कि इंतेज़ामिया का किसी कोर्स में एडमिशन को लेकर उम्र सीमा लगाना सांविधानिक अधिकार के खिलाफ है. इससे वो गरीबो से शिक्षा का अधिकार छीन रहे हैं. लिहाज़ा हमारी इंतेज़ामिया से गुज़ारिश है कि जल्द ही इस फैसले को वापस ले नहीं तो छात्र आंदोलन करेंगे.

इस मौके पर ज़ैद उल इस्लाम शेरवानी, मोहम्मद अज़ीम, शहरोज़ खान, सरफ़राज़ चौधरी, तालिब अली, आसिफ, रिज़वान, खालिद चौधरी, इमरान, ज़फर, बाक़िर शहज़ाद, आसिफ आदि उपस्थित रहे.

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post