Latest News

Tuesday, 12 April 2016

सज़ा याफ़ता उम्र दराज़ कैदियों को शासन से मिल सकती है राहत

 मुरादाबाद में आज जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अचानक जिला जेल पहुंचे । उनके साथ जेल अधीक्षक एवं DPRO भी मौजूद रहे । काफी देर तक जेल में समय बिताने के बाद बाहर निकालकर जिलाधकारी ने बताया की शासन द्वारा एक कमिटी बनाई गई है जिसमे 4 लोग शामिल हैं । इस कमिटी का काम है की ऐसे सिद्ध दोष बंदी यानि सजा याफ्ता मुजरिम जो काफी समय से जेल में बंद हैं और जिनकी उम्र भी काफी हो चुकी है और जो अब क्राइम करने में भी असमर्थ हैं , ऐसे बंदियों की कमिटी द्वारा जांच की जा रही है । शासन ऐसे मुजरिमों को जेल से रिहा करना चाहता है क्योंकि जेलों में पहले से ही क्षमता से ज्यादा बंदी बंद हैं । आज भी ऐसे ही 7 बंदियों के जांच पड़ताल की गई है और ये तय किया जाना है की इनमे से कितने बंदियों को रिहा किया जा सकता है । फिलहाल जांच के बाद पूरी रिपोर्ट तैयार करके शासन को भेजी जायेगी जिसके बाद आनेवाले आदेशों पर अमल करते हुए बंदियों को रिहा करने की प्रक्रिया शुरू की जायेगी । शासन द्वारा शुरू की गई इस योजना को एक अच्छा प्रयास माना जा रहा है ।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post