Latest News

Friday, 15 April 2016

भ्रष्टाचार के दलदल में फंसी पंजाब की बादल सरकार को एक और करारा झटका लगा है.



भ्रष्टाचार के दलदल में फंसी पंजाब की बादल सरकार को एक और करारा झटका लगा है. चुनावी साल में मुख्यमंत्री यप्रकाश सिंह बादल अब 12000 करोड़ के अनाज खरीद घोटाले में घिरते नज़र आ रहे हैं.
रिज़र्व बैंक के सूत्रों के मुताबिक बादल सरकार ने राष्ट्रीयकृत बैंको से अनाज खरीदने के लिए 12000 करोड़ रूपए का ऋण लिया था. इस मामले की जांच करने से पता लगा है कि इस ऋण से अनाज की कोई खरीद नही हुई है क्यूंकि गोदामों से अनाज के भण्डार गायब हैं. ऐसा शक है कि बैंकों के वरिष्ठ अधिकारीयों की इस कथित घपले में मिलीभगत रही है.
मुंबई स्थित रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के मुख्यालय ने पंजाब सरकार को ऋण देने वाले सभी राष्ट्रीयकृत बैंको से इस सिलसिले में स्पष्टीकरण माँगा है. सूत्रों के मुताबिक सरकार को अनाज खरीदने के लिए हज़ारों करोड़ का ऋण देते समय बैंक अधिकारियों को सुनिश्चित करना चाहिय था की बैंक के पैसे से क्या राज्य सरकार के अफसर अनाज खरीद रहे हैं और इस अनाज का भंडारण कहाँ हो रहा है.
लेकिन ऐसा लगता है कि खरीद से लेकर भण्डारण तक कोई बैंक अधिकारी मौके पर पुष्टि करने नही गया. मुमकिन है ये सारा घपला राज्य सरकार और बैंक अधिकारियों की साज़िश से किया गया हो. उधर स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ने इस घपले को देखते हुए अपने वरिष्ठ अधिकारीयों की 18 अप्रैल को मीटिंग बुलाई है. इस ऋण का सबसे बड़ा हिस्सा स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया से पंजाब सरकार को दिया गया

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post