Latest News

Tuesday, 19 April 2016

एक रुपये में पांच किलो प्याज, किसानों में हाहाकार



नई दिल्ली। पिछले साल 70 रुपये किलो के भाव से बिकने वाली प्याज का दाम मध्यप्रदेश की मंडियों में 20 पैसे प्रति किलो तक गिर गया है। राज्य की नीमच मंडी में एक रुपये में 5 किलो के भाव बिकने वाली प्याज किसानों को अब खून के आंसू रुला रही है।नीमच के पास डीकेन गांव के दयाराम पाटीदार जब नीमच मंडी में अपनी फसल लेकर आए, तो उनके पैरों के नीचे की जमीन खिसक गई।
इस हफ्ते नीमच में प्याज 20 से 30 पैसे किलो बिक रही है। दयाराम पाटीदार का कहना है कि हम इतनी मेहनत से फसल पैदा करते हैं और इसका ये नतीजा निकलता है। 20 पैसे किलो के भाव तो खर्चा भी नहीं निकलता, जो इसे उगाने में लगता है।वहीं दूसरे किसान रामेश्वर कुमार का कहना है कि प्याज का बीज बाजार में 100 रुपये से लेकर 200 रुपये में मिलता है, लेकिन जब वे प्याज मंडी में बेचने आते हैं तो उसका दाम 1 रुपये से भी कम हो जाता है, ऐसा क्यों है।वहीं एक और किसान ज़ाकिर का कहना है कि जब हम प्याज मंडी लेकर आते हैं तो आने का भाड़ा भी हमें नहीं मिल पा रहा इसलिए मंडी में हम लोग प्याज फेंककर जा रहे हैं। अब ये गणित किसानों की समझ से परे है कि जब फसल आती है तो दाम जमीन पर क्यों गिर जाते हैं और सारा माल व्यापारियों के गोदाम में पहुंच जाता है।वहीं दूसरी ओर कम दाम के लिए व्यापारी बंपर फसल को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। प्याज कारोबारी शिवकुमार का कहना है कि आवक अच्छी है इसलिए दाम में गिरावट आई है। अब सवाल ये उठता है कि जब प्याज के दाम आसमान छूते हैं तो पूरे देश के राजनेता जुबानी जंग में कूद पड़ते हैं, लेकिन जब किसानों को लागत निकालना मुश्किल हो रहा है तो कोई पूछने भी नहीं आ रहा।


No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post