Latest News

Friday, 8 April 2016

मुरादाबाद पुलिस की कार्यशैली पर लग रहें सवालिया निशान



आज हम आपको मुरादाबाद के ईमानदार एसएसपी नितिन तिवारी के निर्देशन में काम करने वाली मुरादाबाद पुलिस के बारे में अवगत करातें हैं, की कैसे मुरादाबाद पुलिस अपनी ज़िम्मेदारी को अंजाम दे रही है।
दिनांक 06-04-2016 की शाम 06:00 बजे थाना कटघर के लाजपत नगर पुलिस चौकी के पास रहने वाले सब्जी विक्रेता मोहम्मद राशिद का 9 वर्षीय पुत्र मोहम्मद रागिब लापता हो गया, सूचना मिलने पर राशिद 08:30 बजे (अपनी सब्जी की दुकान से जो थाना गलशहीद के संभली गेट पर है) अपने घर आ गए, उन्होंने आपने पुत्र को काफ़ी ढूंढा, जब कुछ पता नहीं चला तो राशिद के छोटे भाई शाहीद ने थाना कटघर जाकर थाना पुलिस को रागिब के गुम हो जाने की पूरी जानकारी दी और उसका फ़ोटो देकर वो अपने घर आ गए, और हर संभावित स्थान पर रागिब को तलाश करने लगे, अगले दिन यानी 07-04-2016 को शाहीद ने एक किराये की रिक्शा में साउंड सिस्टम लगवा कर अपने ग़ायब भतीजे रागिब के सम्बन्ध में ऐलान करना शुरू कर दिया, जब शाहीद संभल रोड पर ऐलान कर रहे थे कि तभी उनके पास एक बाईक सवार आकर रुका और उसने शाहीद से कहा कि जैसे हुलिये के बच्चे के बारे में आप ऐलान कर रहे हो, ठीक वैसा ही बच्चे का शव उसने कल 06-04-2016 की शाम 08:30 बजे उन्हें मुरादाबाद से कुन्दरकी जाते समय गागन चौराहे से आगे नानपुर के पास सड़क किनारे पड़ा देखा था, और वहां पुलिस भी खड़ी थी, इस सूचना पर शाहीद ने उस बाईक सवार हाथ जोड़ कर कहा कि वो उसको वहां लेकर चले, बाईक सवार उसको टी पी नगर पुलिस चौकी ले आया, वहां मौजूद पुलिस वालो ने उन्हें कुन्दरकी थाने का सरकारी नंबर दिया, जिस पर बात करने पर शाहीद को बताया गया कि आप पोस्टमार्टम हाऊस चले जाओ, वहां जाकर शिनाख्त कर लो। इस पर शाहीद उस बाईक सवार के साथ ही कोर्ट रोड पर जेल के पीछे बने पोस्टमार्टम हाऊस पहुंचा और शव की शिनाख़्त की,

अब आप बताओ कि जब कल रात ही थाना कटघर पुलिस को गुमशुदा बच्चे के बारे में सभी ज़रूरी जानकारी दे दी गई थी तो क्या जानकारी लेने वाले पुलिसकर्मी ने इस सूचना को वायरलेस सेट से पुरे जनपद के सभी थानो को सूचना नहीं दी थी, या फ़िर कुन्दरकी थाना पुलिस ने शव मिलने की सूचना जनपद में तैनात अधिकारीयों को नहीं दी थी ?

इस सब से साफ़ ज़ाहिर हो रहा है की हमारी पुलिस कितनी क़ाबिल है, जब वो एक ही जनपद में गुम हुए बच्चे के मिले शव के बारे में सूचना मिलने के बाद भी शिनाख़्त नहीं कर सकती है तो फ़िर और किसी चीज़ की क्या आप उम्मीद कर सकतें हैं।

अभी चंद दिन पहले थाना गलशहीद के प्रिंस रोड पर कुछ भू माफ़ियाओं ने खुले आम दिन दहाड़े पुलिस फ़ोर्स को लाठी डंडे व पत्थर के बल पर गालियां देकर दौड़ा लिया था,  इस मामले में पुलिस के आला अधिकारी पत्रकारों से झूठ बोलते रहे कि ऐसी कोई घटना नहीं हुई है, अगले दिन जब सोशल मीडिया पर दौड़ती और गालियां खाती पुलिस नज़र आई तो तुरंत मुक़दमा दर्ज कर लिया गया, लेकिन हुआ कुछ नहीं, आज भी पुलिस के हमलावार खुलेआम घूम रहे हैं और पुलिस चाहकर भी उनको गिरफ़्तार करना तो दूर, उन्हों रोक कर पूछताछ भी नहीं कर सकती है,

मुगलपुरा क्षेत्र में थाने के ठीक पीछे रहने वाले पीतल कारोबारी इरशाद अली को कुछ दबंग लोग मकान बनाने नहीं दे रहें हैं,  वो लोग इरशाद अली से वो मकान खरीदना चाहतें हैं, इरशाद अली कई दिन से पुलिस व प्रशासन के अधिकारीयों के कार्यालय के चक्कर लगा लगा कर थक गया है, उसे इन्साफ मिलना तो दूर की बात है, उल्टा चौकी इंचार्ज ने उसके ख़िलाफ़ 107/116 की कार्यवाही ज़रूर कर दी है,

अब आप समझ सकतें हैं कि मुरादाबाद जनपद में पुलिस का क्या हाल है,
ये सब होता है अच्छे निर्देशन से, ज। निर्देशन ही अच्छा नहीं होगा तो सिस्टम क्या खाक़ सही होगा।

अगर कल रात ही पुलिस इस मामले में अपनी ज़िम्मेदारी सही से निभाती तो ठीक है वो बच्चा ज़िंदा तो नहीं मिल पता, लेकिन एक रात उसके परिवार पर कैसी गुज़री है, वो उस रात की तक़लीफ़ से तो बच ही जातें।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post