Latest News

Monday, 30 May 2016

पुलिस ने मस्जिद के मुतवल्ली की दाढ़ी खींची, पैरों तले रौंदी गयी टोपी


बिजनौर। यूपी पुलिस के हर रोज़ खाकी को शर्मसार करने वाले मामले सामने आ रहे हैं। कभी किसी थाने में किसी को बांध कर पीटा जाता है तो कभी रिपोर्ट लिखवाने गए गरीब से घंटों जूते पॉलिश करवाए जाते हैं। ताजा मामला जनपद बिजनौर का है। यहां एक थाने के एसओ ने मस्जिद के मुतव्वली की दाढ़ी खींची और टोपी को पैरों तले रौंदा। इसे लेकर लोगों में तीव्र आक्रोश है।


बिजनौर के थाना शेरकोट के एसओ धर्मेंद्र गुर्जर और बसपा के बढ़ापुर विधायक मोहम्मद गाज़ी की नोकझोंक का खामियाजा विधायक के समर्थकों को भुगतना पड़ रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कुछ दिन पहले बसपा विधायक गाज़ी और शेरकोट थाना अध्यक्ष धर्मेन्द्र में किसी मामले को लेकर अनबन हो गई थी, जिसपर विधायक ने पुलिस के उच्च अधिकारियो से थाना अध्यक्ष की शिकायत की थी।

इसपर पुलिस कप्तान ने शेरकोट थाना अध्यक्ष धर्मेन्द्र गुज्जर को लाइन हाज़िर कर दिया था तथा शेरकोट थाने का इंचार्ज किसी दूसरे को नही दिया था ऐसा लगभग दो दिन चला। इसी घटनाक्रम के चलते नगर में उस समय हलचल मच गई जब धर्मेन्द्र गुज्जर को थाने में देखा गया पता चला की उनकी बहाली हो गई और उन्हें फिर से शेरकोट थाने का चार्ज दे दिया गया है।

इसी उथल पुथल के चलते अब धर्मेन्द्र ने विधायक पर आरोप लगाने शुरू कर दिए. थाना अध्यक्ष द्वारा बसपा  विधायक पर लगाये गये आरोपो में थाना इंचार्ज को धमकाने,गाली गलोच करने जैसे कई आरोपों में मुकदमा दर्ज कर दिया।

थाना अध्यक्ष का गुस्सा यही शांत नही हुआ अब बारी आई विधायक समर्थको की धरपकड़ की. विधायक समर्थक पुलिस को जहाँ मिला उसे मार-पीटकर थाने लाया गया. इसी सिलसिले में मोहल्ला इमामबाड़ा में बनी मस्जिद के मुतवल्ली हाज़ी मुशर्रफ ने आप-बीती बताई।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उन्होंने बताया कि जब वो अपने घर में थे उनके घर के बाहर पुलिस की गाड़ी आकर रुकी जो पुलिस के जवानो से भरी हुई थी. उन्होंने मुझसे कहा तुम्हे एसओ ने थाने बुलाया है मे उनकी गाड़ी में बैठ उनके साथ थाने चला गया. वहां पहुंचा तो थाना अध्यक्ष ने मुझे देखते ही पीटना शुरू कर दिया और मेरी दाढ़ी पकड़ कर अपमानित करते हुए मुझे नीचे गिरा दिया। मेरी टोपी भी जमीन पर गिर गई जिसे थाना अध्यक्ष धर्मेन्द्र गुज्जर ने अपने पेरो तले मसल दिया। मामले को  लेकर लोगों में तीव्र आक्रोश है।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post