Latest News

Monday, 23 May 2016

वन विभाग ने नहीं लगाया पिंजरा तो गांव वालों ने खुद पकड़ा तेंदुआ


बिजनौर/मुरादाबाद। जनपद बिजनौर के स्योहारा में तेंदुआ दिखाई देने पर वन विभाग को सूचना देने के बावजूद पिंजरा नहीं लगाया गया। इस पर गांव वालों ने खुद जंजीर व फंदा पेड़ से बांध दिया, जिसमें तेंदुआ फंस गया।
स्योहारा थाना क्षेत्र के गांव टांडा (मिलक) में आज सुबह 3:45 पर उस समय हलचल मच गई जब लोग सवेरे अपने घरो से निकल अपने अपने जंगलो को जा रहे थे।


गांव में ही बने मुर्गी फ़ार्म के पास एक पेड़ पर जंजीर के सहारे लटके हुए मादा तेंदुए को देखा गया । ज्ञात हो की ग्राम टांडा में पिछले कई दिनों से गांव के लोग तीन तेंदुओ के गांव में होने की बात करते आ रहे थे । जिसकी सूचना ग्राम वासियों ने वन विभाग को भी दी थी।
दो रोज पहले मुर्गी फ़ार्म पर तेंदुए ने वहां पल रही मुर्गियों पर हमला कर दिया था और कई मुर्गियों को अपना निवाला बना लिया था। फार्म मालिक ने तेंदुए को पकड़ने के लिए एक लम्बी जंजीर में पुराने जमाने का फंदा बांधा और पेड़ के सहारे उस जंजीर को बांध दिया।

तेंदुए के मुंह मुर्गी का खून लग चुका था, इसलिए कल रात तेंदुआ फिर मुर्गी फ़ार्म पर आ धमका और जंजीर में लगी बेड़ियों में उसका पिछला पैर फंस गया। जिससे पीछा छुड़ाने को तेंदुआ इधर उधर चहल कदमी करने लगा तथा जिस पेड़ से जंजीर बंधी थी उसी पर चड़ गया और पेड़ की शाख पर उलटा लटक गया।
जिसे देखने के लिए आस पास के सभी गांवों के लोग भी मौके पर पहुंच गए। देखते ही देखते वहा तेंदुए को देखने वालो का हुजूम लग गया। गांव वालो ने पुलिस को सूचित किया और पुलिस ने मौके पर पहुंच कर वन विभाग को इसकी जानकारी दी।
वन विभाग के रेंजर और उनकी टीम कई घंटो के बाद घटना स्थल पर पहुंचे तथा अपने साथ लाये पिंजरे में तेंदुए को डालने का प्रयास करने लगे । जिस पर गांव वालों ने कहा कि पहले इसे बेहोशी का इंजेक्शन लगा दो फिर ये आसानी से पिंजरे में आ जायेगा।
इस पर वन कर्मियों ने कहा की हमारे पास इसे बेहोश करने वाला इंजेक्शन नहीं है।
घंटों मशक्कत के बाद वन विभाग कर्मियों ने तेंदुए को पिंजरे में कैद किया।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post