Latest News

Thursday, 2 June 2016

ये है रामवृक्ष यादव, जिसके एक इशारे पर जल उठा मथुरा


मथुरा। गुरुवार को मथुरा के जवाहरबाग में अतिक्रमण हटाने गई पुलिस और दंगाईयों के बीच हिंसक झड़प हुई जिसमें दो अफसरों की मौत हो गई और कई पुलिस वाले जख्मी है। इस झड़प में दंगाइयों ने पुलिस पर राइफल, हथगोला आदि से हमला किया जिससे पता चलता है कि दंगाई पूरी तैयारी के साथ बैठे थे। बताया जा रहा है कि इस पूरे मामले का सरगना रामवृक्ष यादव नाम का एक शख्स है जो गाजीपुर का रहना वाला है।
कौन है रामवृक्ष यादव
रामवृक्ष 15 मार्च 2014 में करीब 200 लोगों के साथ मथुरा आया था और इसने प्रशासन से यहां रहने के लिए दो दिन की इजाजत ली थी। लेकिन दो दिन बाद भी वो यहां से हटा नहीं। शुरुआत में वो यहां एक छोटी सी झोपड़ी बना कर रहता था, धीरे-धीरे यहां पर और झोपड़ियां बनीं, इसके बाद उसने 270 एकड़ में अपनी सत्ता चलाने लगा। वह इतना ताकतवर हो गया कि प्रशासन भी उसका कुछ नहीं कर पा रहा था।
जवाहरबग में पुलिस को मारने के लिये चल रही थी हथियार फेक्ट्री तलाशी के दौरान पुलिस टीम को 200 रायफल, 80 तमंचे, 500 कारतूस और काफी मात्रा में बम्ब,  एस.बी.बी.एल. बरामद । नक्सली बना रहे थे हथियार
मथुरा LIVE: अभी तक 17 मौत, डीजीपी मौके पर, कुछ पुलिसवाले भी लापता,
मथुरा में हुआ बवाल अभी तक 17 जिंदगानियां निगल चुका है। पोस्टमार्टम में 13 और 4 शव अस्पताल में होने की सूचना है। अभी कोई अधिकारी मौतों की संख्या की आधिकारिक पुष्टि नहीं कर रहा है लेकिन माना जा रहा है कि मृतकों की संख्या और हो सकती है। एसपी सिटी का पोस्टमार्टम अभी होने वाला है।

अभी भी जवाहरबाग में सर्च अभियान जारी है। आज सुबह 2 कब्जाधारी जवाहरबाग़ में पेड़ पर चढ़े मिले। उनके पास से एके 47 की कार्टेज मिली हैं। मौके पर कारतूस के खोखे और बॉड़ी प्रोटेक्टर टूटे मिले।

कुछ पुलिसकर्मियों के लापता होने की भी खबर सामने आ रही है। एडीजी लॉ एंड आर्डर दलजीत चौधरी, डीजीपी जावीद अहमद और गृह सचिव देवाशीष पांडा मौके पर पहुंच चुके हैं। पुलिस लाइन में शहीद पुलिसकर्मियों को सलामी-श्रद्धांजलि दी जायेगी।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post