Latest News

Saturday, 27 August 2016

बीच सफर मे महिला की मौत के बाद पाँच माह के बच्चे समेत परिवार को बस से उतारा


भोपाल। किस मुंह से हम नैतिकता की दुहाई देते हैं, आधुनिकता के दौर में संवेदनाएं मरती जा रही हैं पिछले दो दिनों में जो खबरें आई जिससे देश के सिस्टम पर सवाल उठे। एक ऐसा ही मामला मध्यप्रदेश में मानवता को शर्मसार करने वाला सामने आया है।

घटना मध्यप्रदेश के दमोह से है। राम सिंह नाम का युवक अपनी पत्नी के उपचार के लिए बस में दमोह ले जा रहा था। रास्ते में महिला की तबियत खराब हो गई और उसकी चलती बस में ही मौत हो गई। इसके बाद बस के ड्राइवर, कंडक्टर और यात्रियों ने लाश सहित पूरे परिवार को बीच रास्ते में ही उतार दिए। रामसिंह की गोद में उसका पांच दिन बच्चा भी था, लेकिन किसी को भी दया नहीं आई। जिस जगह लाश को उतारा गया वो जंगली इलाका था और एक बेबस पति और पिता अपनी पत्नी की लाश के पास बैठकर पांच दिन की मासूम को चम्मच से दूध पिलाता रहा।


 बूढ़ी मां अपनी बहू की लाश के सिरहाने बैठकर रोती रही। बहरहाल चश्मदीदों ने इसके बाद पुलिस को पूरे मामले की जानकारी दी पुलिस मौके पर भी पहुंची, लेकिन पीड़ित की परिवार की कोई मदद पुलिस ने भी नहीं की। इसके बाद चश्मदीदों ने प्राइवेट एंबुलेंस कर पीड़ित परिवार को उनके गांव भिजवाने का इंतजाम करवाया।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post