Latest News

Sunday, 7 August 2016

थानेदार की दबंगई के चलते सात साल का मासूम कड़ाही




लखनऊ, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पुलिस की छवि को सुधारने के लिए यूपी पुलिस को मित्र पुलिस बनाने का काम कर रहे है, लेकिन यूपी पुलिस मित्र पुलिस नही बल्कि टेरर पुलिस बनना पसन्द करती है. पुलिस का ऐसा ही कुछ टेरर यूपी के मऊ जिले में देखने में आया है. यहां यूपी पुलिस का जो चेहरा सामने आया उसको देखने के हर किसी का होश उड़ गए है. यहां पुलिस के टेरर का शिकार बना है एक सात साल का बच्चा जो अपने पिता के साथ सब्जी लेने के लिए बाजार गया था लेकिन पुलिसवालों ने उसे ऐसा दर्द दिया है जिसे वो ताउम्र नहीं भूल सकेगा.

ये मामला मऊ जिले के दक्षिणटोला थाने के सलेमपुर हकीकतपुरा गांव का है. जहां के रहने वाले कल्पनाथ अपने सात वर्षीय बेटे विशेष कुमार को लेकर हाइवे के किनारे बाजार में सब्जी खरीदने गए तो बच्चे ने पापा से कहा वह पकौडी खाना चाहता है, तो पिता ने कहा कि ठीक खा लो बेटा पकौडी खाने लगा और पिता सब्जी खरीदने लगे.

इसी बीच वहा पर दक्षिणटोला थाने के थानेदार पहुंचे तो अगल-बगल में खड़े लोगों ने थानेदार को देखते ही भागना शुरू कर दिए. इसी बीच में थानेदार लाठियां भांजकर भीड़ को हटाना शुरू कर दिया, लेकिन इसी बीच में हाइवे के किनारे ठेले पर पकौड़ी दुकान लगाए दुकानदार भी भागने लगा तो थानेदार की लाठी भांजते ही खौलते तेल की कडाही में जा टकराया और पकौड़ी खा रहे बच्चे के शरीर और चेहरे पर खौलता तेल गिर गया.

इसमें विशेष कुमार गम्भीर रूप से झुलस गया, जिसको देखते ही थानेदार का रुबाव-रुतबा सब रफ्फूचकर हो गया तो थानेदार बच्चे को छोड़कर भाग निकले. बाजार में हडकम्प मच गया और बच्चा पापा-पापा चिल्लाने लगा. जब बूरी के पिता दौड़कर आए तो देखा कि उनका बेटा गर्म तेल से झुलस गया और तड़प रहा है. इसके बाद उन्होंने अपने बेटे को आनन-फानन में प्राथमिक इलाज के लिए पास में डॉक्टर को दिखाया. इसके बाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया.

जब घायल बच्चे विशेष कुमार पूछा गया कि तुम कैसे जले तो उसने बताया कि एसओ साहब की गाड़ी आई. वह गाड़ी से उतरे और उन्होंने लाठियां चलाने लगे. इसी बीच में कडाही का तेज उसके ऊपर गिर गया और वह जल गया, लेकिन एसओ साहब मुझे जला हुआ देखकर छोड़कर चले गये. बच्चे ने बताया वहां एक दादा थे जिन्होंने मेरा तेल पोछने का काम किया और मैं रोने लगा तो मेरी आवाज को सुनकर पापा आये तो मुझे देखकर उन्होंने डॉक्टर को दिखाकर इलाज करा रहे है.

घायल बच्चे विशेष कुमार के पिता कल्पनाथ ने कहा कि उसका बेटा पुलिस की लापरवाही से झुलस गया, लेकिन पुलिसवालों ने ये जानने का तक प्रयास नही किया बच्चे की हालत कैसी है. वहीं पिता का ये कहना है कि उसने पुलिस अधीक्षक से गुहार भी लगाई लेकिन तब भी उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई.

लडके की मां मन्जू कुमारी ने भी पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए न्याय की गुहार लगायी है और पुलिस की लापरवाही पर कार्रवाई की मांग की है.

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post