Latest News

Wednesday, 7 September 2016

दफ्तर सजाने के लिए स्मृति ईरानी समेत 23 मंत्रियों ने खर्च किए 3.5 करोड़ रुप


नई दिल्ली : मोदी सरकार के 23 मंत्रियों ने दफ्तर सजाने यानी रेनोवेशन में करीब 3.5 करोड़ रुपये खर्च किए। इनमें स्मृति ईरानी समेत अधिकतर जूनियर मंत्री शामिल हैं।

इसमें ऐसे मंत्री भी हैं जिन्हें बाद में कैबिनेट से बाहर कर दिया गया या फिर विभाग बदले गए थे। तो वहीं दूसरी ओर, वरिष्ठ मंत्रियों में शामिल गृहमंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने एक भी रुपये खर्च नहीं किया। आरटीआई में इस बात का खुलासा हुआ है।

आपको बता दे की 23 मंत्रियों में ज्यादा खर्च करने वालों में स्मृति ईरानी, चौधरी वीरेंद्र सिंह, राज्यवर्द्धन राठौड़, उपेंद्र कुशवाहा, राम शंकर कठेरिया, जगत प्रकाश नड्डा, सांवरलाल जाट और जितेंद्र सिंह शामिल हैं।




सरकार ने जवाब में बताया कि ऑफिस के रिनोवेशन में प्रीमियम वॉश बेसिन से लेकर डिजाइनर ग्लास पार्टिशन और वुडेन फ्लोरिंग तक कराई गई। 3.5 करोड़ रुपये की रकम मोदी सरकार के शुरुआती दो साल के दौरान खर्च की गई।

बहरहाल, स्मृति ईरानी जब एचआरडी मंत्री थीं, तब उनके और दो जूनियर मंत्रियों के ऑफिस रेनोवेशन पर 1.16 करोड़ रुपये खर्च किए गए। ईरानी के ऑफिस के लिए करीब 70 लाख और दो राज्य मंत्रियों के दफ्तरों पर लगभग 40 लाख रुपये लगाए गए।

यही नहीं, स्मृति ईरानी के मामले में हुए खर्च का बड़ा हिस्सा एक नए कॉन्फ्रेंस रूम में गया। चौधरी वीरेंद्र सिंह के ग्रामीण विकास मंत्री रहने के दौरान फ्लोरिंग और सीलिंग पर करीब 70 लाख रुपये खर्च किए गए।

स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने 22.37 लाख रुपये खर्च करवाए। उन्होंने मॉड्युलर फर्नीचर के लिए 10.60 लाख रुपये लगवाए। सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री राठौड़, रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री हंसराज गंगाराम अहीर और खान राज्य मंत्री विष्णु देव ने रेनोवेशन पर खर्च किया लेकिन उनके सीनियर मंत्रियों ने ऐसा नहीं किया।


पूर्व अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नजमा हेपतुल्ला के वक्त उनके जूनियर मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने करीब 14 लाख रुपये खर्च किए। इसमें से 7000 रुपये डस्टबिन पर लगे।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post