Latest News

Tuesday, 11 October 2016

शुगर फैक्ट्री मे गिरी दीवार 5 मजदूरों की मौत,12 घायल


निर्माण कार्य में बरती जाने वाली सावधानियो को दरकिनार करते हुए कराया जा रहा था निर्माण। काम करने वाली लेवर को जूते/हेलमेट व वर्दी के बिना ही अपनी जान जोखिम में डाल कर करना पड़ रहा था काम।

स्योहारा/बिजनौर। शुगर फैक्ट्री स्योहारा बिजनौर के डिस्ट्रलरी प्लांट में केमिकल के कुछ बड़े टेंक जमीन के अंदर रखे जाने थे जिन्हें रखने के लिए लगभग 400,गज जमीन के टुकड़े को 15, फिट की गहराई तक खोद कर मिटटी निकालने के बाद उसकी ईट की चिनाई से चार दिवारी कर दी गई थी। इन दीवारों की मोटाई 14, इंच थी पर इन दीवारों में कोई भी RCC का पिलर नही दिया गया था।
इस 15, फिट गहरे गड्डे में लोहे की चादर से बने विशालकाय टेंक रखने के लिए पीलर बनाये जा रहे थे पिलर बनाने का काम युद्ध स्तर पर चल रहा था जिसमे श्रमिको से रात दिन काम लिया जा रहा था टेंको के पिलरों का काम 70% पूरा हो चुका था। कुछ पिलर अभी बनाये जाने बाकी थे बीती 10, अक्टूबर की रात को 7,बजे से कुछ समय पहले भी यहाँ पिलर बनाने का काम चल रहा था जिसमे लगभग 25/30, श्रमिक काम कर रहे थे इस बेसमेंट के बाहर दीवार के पास ही मसाला बनाने की मशीन चल रही थी। जिससे बना मसाला उन पिलरों को बनाने वालो तक पहुचाया जा रहा था की अचानक मशीन के निचे की मिट्टी खिसक गई और मशीन दीवार पर जा गिरी तथा चंद पलो के अंदर पूरी दिवार निचे काम कर रहे श्रमिको के उपर गिर गई।

जिस कारण वहा काम कर रहे 17, श्रमिको में से 5, श्रमिक गम्भीर रूप से जख्मी हो गये और बाकी लोगो के भी शरीर के विभिन हिस्सों में चोटे आई हादसे के वख्त वहा पर मौजुद लोगो ने निचे दबे लोगो को निकाला जिन्हें मील की गाडियों में डाल कर उपचार की गरज से अस्पतालों को ले जाया गया जो 5, श्रमिक गम्भीर रूप से जख्मी थे उनका अस्पताल पहुचते पहुचते ही देहांत हो गया तथा जो श्रमिक घायल थे उनका इलाज चल रहा है।

इस हादसे में जिन श्रमिको के हल्की चोटे आई है। उनमे बब्लू पुत्र रामपाल सिंह व सुरेन्द्र सिंह पुत्र हरपाल सिंह निवासी ग्राम बेरखेड़ा टांडा थाना स्योहारा के अनुसार यहाँ पर काम करने वाले मजदूरों से जबरदस्ती काम कराया जाता था सुबह 4, बजे आते थे और रात को 10, बजे तक काम लिया जाता था कभी कभी तो 24/24, घंटे भी काम लिया जाता था इस बेसमेंट की दीवारों में एक भी सरया नही लगाया गया था ये दीवार केवल रेट सीमेंट व ईट से बनाई गई थी ठेकेदार ओमप्रकाश सिंह चौहान इस काम को जल्द पूरा करने का हमपर प्रेशर बनाता था।

छोटे पुत्र मुखवा, बब्लू पुत्र छोटे सिंह, संजय पुत्र  नरेंद्र, पंकज पुत्र विजयपाल, मुनिंद्र पुत्र रामओतार सेनी, सुनील पुत्र हरपाल सेनी, लवकुमार पुत्र सत्यपाल सिंह,मुनीश पुत्र वीरपाल, सतपाल पुत्र पोखर सिंह,नरेंद्र पुत्र हरपाल, क्रष्ण पाल पुत्र उदयवीर, ओमप्रकाश पुत्र दलवीर सिंह, मुनेश पुत्र रामवीर सेन, राजीव पुत्र महेंद्र तथा दो अन्य मजदूरों के भी घायल होने की सुचना है।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post