Latest News

Monday, 3 October 2016

बेटी ने कहा पापा यह मत समझना कि मेरा किसी के साथ चक्कर है, कह कर सदफ ने खा लिया ज़हर




सहारनपुर।  आरटीओ और थ्री व्हीलर चालकों की मनमानी को लेकर संघर्ष करते आ रहे एक शख्‍स ने गवर्नर को लेटर लिखकर इच्छा मृत्यु की मांग की। पिता के इस कदम से हताश उसकी बेटी ने जहर खाकर सुसाइड की कोशि‍श कर ली। वह हॉस्‍पिटल में एडमिट है और जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही है।

19 साल की बेटी सदफ ने सुसाइड नोट में अपने पिता को नसीहत भी दी कि वह इतनी जल्दी कैसे जिंदगी से हार मान गए। भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार सदफ ने सुसाइड नोट में लिखा- इच्छा मृत्यु मांगने से पहले आपको जरा भी अपने बीवी-बच्चों का ख्याल नहीं आया। मैंने जहर इसलिए खाया, क्‍योंकि इससे किसी समस्या का समाधान नहीं होता है। पापा, आप यह मत समझना कि मेरा किसी के साथ कोई चक्कर है। पापा आपको अगर यह मेरी गलती लगती है तो पापा प्लीज पाप मुझे माफ कर देना। प्लीज सॉरी पापा।

सहारनपुर के खाताखेडी इलाके के रहने वाले इमरान खान ने 3 दिन पहले गवर्नर को एक लेटर लिखकर इच्छा मृत्यु की मांग की थी। लेटर में इमरान ने कहा था, वह सहारनपुर-शाकंभरी देवी मार्ग बस यूनियन का मैनेजर है। इस रूट पर बिना आरटीओ की परमिशन के जबरन थ्री व्हीलरों का संचालन कर रहे हैं।

बताया कि वह 4 अक्टूबर 2012 से अब तक शासन व प्रशासन से थ्री व्हीलरों का संचालन बंद कराए जाने की बाबत 74 आदेश करा चुके हैं, लेकिन आरटीओ विभाग की ओर से एक भी आदेश पर अमल नहीं किया गया, जिस कारण वह जिंदगी से परेशान आ चुका और अपनी पत्नी व चार बच्चों समेत मृत्युदान चाहता है।  यह लेटर अभी गवर्नर को भेजा ही गया था कि लेटर की एक कॉपी इमरान की 19 साल की बेटी सदफ के हाथ लग गई। लेटर पढ़ने के बाद सदफ ने सीएम अख‍िलेश यादव को एक लेटर लिखने के साथ ही एक सुसाइड नोट लिखा और जहरीला पदार्थ खा लिया।

जहरीले पदार्थ का सेवन करने से सदफ की हालत बिगड़ गई, आनन-फानन में उसे एक प्राइवेट हॉस्‍पिटल में एडमिट कराया गया है। आईसीयू में सदफ जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही है।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post