Latest News

Tuesday, 15 November 2016

पीएम को नही भूलना चाहिए की हिटलर को बुराइयों के लिए याद किया जाता है, उसने भी माँगा था 50 दिन का समय-आज़म


लखनऊ। शहरी विकास मंत्री मोहम्मद आजम खां ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 50 दिन की मोहलियत मांगें जाने सम्बंधी बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि शायद देश का बादशाह भूल चुका कि दुनिया के सबसे बड़े तानाशाह हिटलर ने भी अपने मुल्क से 50 दिन का समय माँगा था, पीएम को यह नही भूलना चाहिए कि हिटलर को बुराइयों के लिए याद किया जाता है।
रामपुर में मीडिया से बातचीत में सपा के कद्दावर नेता आज़म ने मोदी की "कड़क चाय" की संज्ञा के सवाल पर कहा कि वह (पीएम) को कड़क चाय और ढ़ाबे की चाय का मतलब ही नहीं मालूम है, हम इसके बारे में ज्यादा जानते हैं और इसी लिए बार बार कह रहे हैं हमें पीएम तो बनाओ।
नोटबंदी के सवाल पर आजम ने कहा कि नोटों की बात अडानी और अंबानी से करनी चाहिए, क्योंकि (बादशाह) ने जो भी कुछ किया है वह इन्हीं लोगों के मशविरे (सलाह) पर किया है। परेशानी और समस्या तो उन लोगों को है जो छोटी छोटी चीजो के लिए दो-दो हजार के नोट आगे बढ़ा रहे हैं, स्पष्ट किया कि नोट को लेकर हमारी कोई समस्या नहीं है।
केबिनेट मंत्री ने जनता से चीख चीखकर 50 दिन की मोहलत मांगने के प्रधानमंत्री के बयान पर कहा कि "प्रधानमंत्री जी" हिटलर ने भी अपने देश से पचास ही दिन मांगे थे, लेकिन इतिहास आज भी याद दिलाता है कि जब जब हिटलर को याद किया जाता है सिर्फ बुराई और तानाशाही के लिए ही किया जाता है। आगाह किया कि हम तो पीएम को बता देना चाहते हैं कि अच्छा काम करने के लिए दिनों की समयसीमा तय नही की जाती है।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post