Latest News

Monday, 21 November 2016

बैंक मैनेजर ने बिना एमाउंट भरे विड्राल पर करवाए हस्ताक्षर, लोगों ने काटा हंगामा राजपाल चौहान ने किया लोगो को शांत


मुरादाबाद/ठाकुरद्वारा। 8 नवम्बर की रात से 1000 व 500 के नोट बंद होने के बाद 10 नवम्बर से बैंकों के आगे लम्बी-लम्बी लाइनें लग रही हैं। 11 दिन बीतने के बाद ही हालात जस के तस हैं, वहीं कई जगहों पर तो हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। ताजा खबर मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा से आ रही है। यहां प्रथमा बैंक के शाखा प्रबंधक द्वारा विड्राल पर बिना एमाउंट (रकम) भरे खाताधारकों से साइन कराए जा रहे थे। इस पर आज लोगों ने जमकर हंगामा किया।


ठाकुरद्वारा के ग्राम शरीफनगर स्थित प्रथमा बैंक में पैसा निकालने गए लोगों को शाखा प्रबंधक ने फरमान सुनाया कि धन निकासी फार्म पर रकम वाला कॉलम खाली छोड़ दें और हस्ताक्षर कर विड्राल पासबुक के साथ जमा कर दें। जानकारी के अनुसार कई दिनों से यह मामला चल रहा था। सोमवार को इस बात को लेकर ग्रामीणों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। उन्होंने रोड पर जाम लगाते हुए बैंक प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी।
कोतवाली प्रभारी रविन्द्र प्रताप सिंह व बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजपाल चौहान ने मौके पर पहुंचकर मामले को नियंत्रित किया। उन्होंने बताया कि बैंक मैनेजर को फटकार लगायी गयी है। वहीं मौके पर पहुंचे भाजपा नेता राजपाल चौहान ने लोगों को समझाबुझा कर जाम खुलवाया। श्री चौहान ने प्रथमा बैंक के उच्चाधिकारियों से बैंक मैनेजर की शिकायत भी की है।

मामले की जानकारी के लिए प्रथमा बैंक के शरीफनगर शाखा प्रबंधक यासीन खां से बात की गयी तो उन्होंने स्वीकार किया कि कई दिनों से कोरे विड्राल पर लोगों से हस्ताक्षर करवाए जा रहे थे। उन्होंने कैश की किल्लत की बात कहते हुए इस काम को सही ठहराने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि लोगों से विड्राल पर हस्ताक्षर करवाकर रख लेते थे, जब शाखा में कैश आ जाता था तो उस हिसाब से बैंक कर्मी विड्राल में एमाउंट भरकर अगली सुबह लोगों को पैसा देते थे। वहीं श्री खां ने स्वयं यह बात मानी कि यह तरीका नियमानुसार गलत है।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post