Latest News

Saturday, 5 November 2016

स्योहारा थाने मे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी के परिवार की भी नहीँ हुई सुनवाई,परिवार से जुड़े मन्द बुद्धि युवक को बेरहमी से पीटा



स्योहारा ।बात बीते शुक्रवार की है ।जब इन्सानियत की हर हद पार करते हुए एक मुकबधिर एव मन्द बुद्धि की जमकर लाढी डन्डो से पिटाई की गई ।महज थाने से दूर कुछ कदमो पर इन्सानियत  तार तार होती रही ओर पुलिस सोती रही ।जी हाँ शुक्रवार की शाम शाहनबाज जो मन्द बुद्धि है।बह आसिफ की दुकान के सामने से गुजरा तो आसिफ ने मन्द बुद्धि एवं मूक बधिर से हसी मज़ाक करना शुरू कर दिया ।इस पर अहमद जो शहनाबाज के साथ था उसने आसिफ से ऐसा करने को मना किया तो आसिफ ने मानबता को ताक पर रख  कर अपने दो साथियों के साथ शाहनबाज ब अहमद  को डन्डो से पिटाई कर गम्भीर रूप मे घायल कर दिया ।उधर से गुज़र रहे रिजवान ब मौजुदा अन्य लोगो ने छुडाया ।इस घटना की जानकारी तत्तकाल थाने को दी गयी ।लेकिन कोई सुनवाई नहीँ हुई ।जी हाँ इस घटना मे सराफ़त का नकाब पहने बाले सफ़ेद पोशाकी चहरो की तानाशाही भी सामने आई जो पुलिस के कार्यवाही न करने से साफ़ ज़ाहिर हो सकती है। जी हाँ पीड़ित मन्द बुद्धि के साथ साथ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी परिवार से समबन्ध रखता है।तहरीर पाकर पुलिस का चुप बैठ जाना मानबता का हनन्न नहीँ तो क्या है।पीड़ित की तबियत ज्यादा ख़राब देख स्योहारा के सरकारी अस्पताल मे भर्ती कराया ओर मेडिकल कराया ।इस बात का जब पत्रकारो को पता लगा तो मानबता की रक्षा के लिए जब थानाप्रभारी से बात की तो थाने मे मौजूद पुलिसवालो की हक़ीक़त सामने आई।कि इस घटना से किसी भी कार्यालय स्टाफ ने थानाप्रभारी को रु ब रु न कराया ।घटना की जानकारी पाते ही थाना प्रभारी शीशुपाल शर्मा ने एन सी आर लिखने आदेश दिये ।तहजीब के लिए पहचाना जानेवाला स्योहारा को इस घटना से दाग़ लग गया ।थाने मे भी लगता है कुछ खादी के दम पर पलने बाले गद्दार अपनी इन बाँटो से बाज़ नहीँ आ रहे ।ओर न जाने आम आदमी को इंसाफ के लिए कहा कहा भटकना होगा ।जब थाना स्योहारा मे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी की सुनवाई नहीँ तो आम आदमी का क्या।
इस घटना से लगता है कि अब थाना खादी के हबाले साथियोँ ।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post