Latest News

Tuesday, 15 November 2016

बच्ची के अपहरण का प्रयास कर रहे युवक को पकड़ कर पुलिस को सौपा, कार्यवाही करने से क़तरा रही पुलिस


स्योहारा/बिजनौर। भारत देश का कानून देश में रहने वाले सभी देश वासियों पर एक समान लागू होता है तथा जिसकी नज़र में अपराध करने वाला सिर्फ अपराधी होता है।  अपराध करने वाला किसी भी धर्म जाती समुदाय स्त्री परुष बालिग़ ना बालिग़ गूंगा बेहरा अंधा लंगडा जिसकी मानसिक स्थिति सही हो सभी के लिए देश का कानून सज़ा की वकालत करता है। ताकि इस अपराध की मार झेलने वाले को इन्साफ मिल सके और जिसने अपराध किया है उसे सज़ा देकर समाज को ये संदेश दिया जाता है कि जिसने जुर्म किया उसे सज़ा मिली और पीड़ित को इन्साफ। वही अपराध करने वाले को सज़ा मिलना अपराध करने की सोच रखने वालो के लिए भी इबरत होता है।

बिजनौर जिले का स्योहारा थाना जहाँ आज एक ऐसी ही घटना देखने को उस समय मिली जब नगर के एक मोहल्ले की गली में अपने घर के सामने खेल रही छोटी बच्ची के अपहरण का प्रयास किया गया।
बच्ची के चचा की और से थाने में दी गई तहरीर के मुताबिक़ उनकी चार पांच साल की भतीजी घर के बाहर गली में खेल रही थी तभी उनकी गली में 19, साल का एक अजनबी इंसान आता है जो बच्ची को उठा अपने साथ ले जाने का प्रयास करता है जो की बच्ची की चीख पुकार से असफ़ल हो जाता है और उक्त युवक वहा से भाग खड़ा होता है जिसे गली के बाहर पकड़ लिया जाता है।

कानून को अपने हाथो में ना ले थाना पुलिस को इसकी सुचना दी जाती है जिसपर पुलिस कर्मी घटना स्थल पर पहुचते है और उक्त व्यक्ति को अपने साथ थाने ले आते है।
जहाँ पर मालुम होता है की जिसे वो पकड़ कर लाये है वो गूंगा बेहरा है। जिसपर पुलिस वाले मानवता दिखाते हुए ये कहते सुने जाते है की गूँगे बेहरे इस व्यक्ति को अगर जेल में डाला तो हमे पाप लगेगा। कुछ देर बाद बच्ची के परिजन भी थाने आकर बच्ची के अपहरण की तहरीर देते है जो लेकर रख ली जाती है और फरयादी को वापस भेज दिया जाता है।  इस विषय में जब थाना अध्यक्ष से बात की तो उनका कहना था की ऐसे मामले तहरीर के आधार पर नही देखे जाते।

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post