Latest News

Tuesday, 22 August 2017

ईद-उल अज़हा पर न करें कोई भी नया काम,राशीद रज़ा

मुरादाबाद/ठाकुरद्वारा- शहर इमाम मौलाना राशीद रज़ा ने जामा मस्ज़िद अहले सुन्नत मे तक़रीर के दौरान लोगो से मुख़ातिब होते हुऐ क़ुरबानी की फज़ीलत को बताया।इस दौरान शहर इमाम ने लोगो को बताया कि हर साहिबे निसाब को क़ुरबानी करनी चाहिऐ साथ ही इस बात का भी ख्याल रखना चाहिए कि क़ुरबानी करने वाला शख़्श चाँद दिखने से लेकर क़ुरबानी करने तक अपने नाख़ून या बाल बगेराह न कटवाए। साथ ही साथ ये भी बताया कि क़ुरबानी के लिए ख़रीदे गऐ जानवर की उम्र का भी ख़ास ख्याल रखना चाहिए और ये भी ध्यान रहे कि क़ुरबानी के लिए खरीदे गऐ जानवर मे कोई ऐब न हो जैसे वह लगड़ा न हो कान व शरीर का कोई भी हिस्सा कटा हुआ न हो।इस दौरान शहर इमाम ने क़ुरबानी की फज़ीलत को समझाते हुऐ बताया कि क़ुरबानी के जानवर को ज़ीवाह करने के बाद जानवर का खून ज़मीन पर गिरने से पहले-पहले ही अल्लाह तआला अपनी बारगाह मे क़ुरबानी क़ुबूल करके क़ुरबानी करने वाले की बख्शीश फरमा देता है। वहीँ इस दौरान शहर इमाम ने लोगो से ये अपील की कि बकरा ईद के दौरान कोई भी नयी रवायत शुरू न करें और इस बात का ख़ास ख्याल रखे कि हमारी वजह से किसी को भी कोई तक़लीफ़ न हो।

फोटो -शहर इमाम राशीद रज़ा
ठाकुरद्वारा- शहर इमाम मौलाना राशीद रज़ा ने जामा मस्ज़िद अहले सुन्नत मे तक़रीर के दौरान लोगो से मुख़ातिब होते हुऐ क़ुरबानी की फज़ीलत को बताया।इस दौरान शहर इमाम ने लोगो को बताया कि हर साहिबे निसाब को क़ुरबानी करनी चाहिऐ साथ ही इस बात का भी ख्याल रखना चाहिए कि क़ुरबानी करने वाला शख़्श चाँद दिखने से लेकर क़ुरबानी करने तक अपने नाख़ून या बाल बगेराह न कटवाए। साथ ही साथ ये भी बताया कि क़ुरबानी के लिए ख़रीदे गऐ जानवर की उम्र का भी ख़ास ख्याल रखना चाहिए और ये भी ध्यान रहे कि क़ुरबानी के लिए खरीदे गऐ जानवर मे कोई ऐब न हो जैसे वह लगड़ा न हो कान व शरीर का कोई भी हिस्सा कटा हुआ न हो।इस दौरान शहर इमाम ने क़ुरबानी की फज़ीलत को समझाते हुऐ बताया कि क़ुरबानी के जानवर को ज़ीवाह करने के बाद जानवर का खून ज़मीन पर गिरने से पहले-पहले ही अल्लाह तआला अपनी बारगाह मे क़ुरबानी क़ुबूल करके क़ुरबानी करने वाले की बख्शीश फरमा देता है। वहीँ इस दौरान शहर इमाम ने लोगो से ये अपील की कि बकरा ईद के दौरान कोई भी नयी रवायत शुरू न करें और इस बात का ख़ास ख्याल रखे कि हमारी वजह से किसी को भी कोई तक़लीफ़ न हो।

फोटो -शहर इमाम राशीद रज़ा

No comments:

Post a Comment

Tags

Recent Post